काकोरी कांड की वो रात… जिसने ब्रिटिश सरकार की नींद उड़ा दी।

0
243

9 अगस्त 1925 की रात भारतीय स्वतंत्रता संग्राम आंदोलन की घटनाओ मे से एक ऐसी रात थी जिसने एक ही झटके में अंग्रेजों की नींव हिला दी. भारतीय इतिहास मे इसे जंग-ए-आजादी की सबसे अहम घटना के तौर पर शुमार किया जाता है. इस घटना को अंजाम देने वालों में मुख्य नायक चंद्रशेखर आजाद और उनके साथी थे. उन्होंने काकोरी कांड को अंजाम देकर ब्रिटिश शासन की नीव हिला डाली ।

  • इतिहास की उस रात को शाहजहांपुर से लखनऊ जा रही नंबर 8 डाउन ट्रेन को लूटा गया, ताकि ब्रिटिश सरकार के खजाने में सेंध लगाई जा सके.
  • इस घटना के नायक राम प्रसाद बिस्मिल,अशफाकुल्ला खान, राजेंद्र लाहिड़ी, चंद्रशेखर आजाद, सचिंद्र बख्शी, केशव चक्रवर्ती, मनमठनाथ गुप्ता, मुरारी लाल गुप्ता, मुकुंदी लाल गुप्ता और बनवारी लाल थे।
  • इस हमले के आरोपियों में से बिस्मिल, ठाकुर, रोशन सिंह, राजेंद्र नाथ लाहिड़ी और अशफाकुल्ला खान को फांसी की सजा हो गई और सचिंद्र सान्याल और सचिंद्र बख्शी को काला पाने की सजा सुना दी गई बाकी शेष क्रांतिकारियों को 4 वर्ष से 14 वर्ष तक की सजा सुनाई गई।

Leave a Reply